ये हैं दुनिया के 10 डरावने शहर, जहां लोगों को दिखाई पड़ते हैं भूत


24th July 2017 | CyberManch.com

ऐसा अनुमान है कि दुनिया में हर दिन तकरीबन डेढ़ लाख लोगों की मौत होती है। दुर्भाग्य कब, किस रूप में किसके सामने आएगा, कोई नहीं जानता, लेकिन अगर आप जीना चाहते हैं तो रुकिए, आपको उन जगहों पर जाने से बचना होगा जिन्हें भुतहा कहा जाता है, यानी जहां भूत या आत्माएं रहती हैं। लोग अपने अनुभवों के आधार पर ये दावा करते हैं। ऐसी जगहें बेहद डरावनी होती हैं। वहां हुई मौतें, हत्याएं और अजीबोगरीब तरीके से दी गई सजाएं इसके लिए जिम्मेदार मानी जाती हैं। 

आइए जानते हैं दुनिया की 10 ऐसी ही जगहों के बारे में...

1. 'लेचवर्थ विलेज', यहीं हुआ था पहली पोलियो वैक्सीन का टेस्ट

न्यूयॉर्क में 'लेचवर्थ विलेज' नामक ये बिल्डिंग 1911 में बनकर तैयार हुई थी। ये अमेरिका का एक प्रतिष्ठित मेंटल हेल्थकेयर सेंटर था। 1950 में यहीं पर वर्ल्ड की पहली पोलियो वैक्सीन का टेस्ट किया गया था। 1921 में यहां लगभग 1200 मानसिक रोगी भर्ती थे, जिनमें ज्यादातर छोटे बच्चे थे। उसी साल यहां के हेड फीजीशियन डॉ. चार्ल्स लिटले ने मरीजों पर मेडिकल एक्सपेरिमेंट्स करने का फैसला किया था। 1950 आते-आते यहां के 4 हजार से ज्यादा मरीज एक-दूसरे के साथ हिंसक व्यवहार करने लगे, पर इसे नजरअंदाज कर दिया गया। झगड़ा करने वाले मरीजों की बुरी पिटाई की जाने लगी, उनसे दुर्व्यवहार किया जाने लगा। लिहाजा बीमारी बढ़ने से मरीजों की मौत होने लगी। धीरे-धीरे मौतों की संख्या बढ़ती गई।

1996 में इस सेंटर को बंद कर दिया गया। तभी से ऐसी रिपोर्ट्स आनी शुरू हुईं कि यहां से हंसने, रोने और एक-दूसरे पर कुर्सियां फेंकने की आवाजें आती हैं। लोगों ने इस बिल्डिंग के आसपास कुछ परछाइयों के भी मंडराने का दावा किया है।

2. 'मैपल हिल' पर खेलने आते हैं 'घोस्ट किड्स'

अमेरिकी स्टेट अल्बामा के हंट्सविले शहर में एक पुराना कब्रिस्तान है- मैपल हिल। इसे Dead Children’s Playground कहा जाता है। ये अनगिनत दफन जिंदगियों का एक सच्चा स्मारक है। दोपहर में तो यहां काफी चहलपहल रहती हैं, लेकिन शाम होते ही ये जगह सुनसान हो जाती है। कहा जाता है कि रात में यहां दफन बच्चों की आत्माएं खेलने आती हैं। दरअसल, इस कब्रिस्तान में एक छोटा खेल का मैदान है। लोगों का कहना है कि अल्बामा की मेडिसन काउंटी 60 के दशक में बच्चों के अपहरण की वजह से काफी चर्चा में थी। इन बच्चों के शव इसी खेल मैदान में फेंके हुए पाए गए थे। रात में यहां से गुजरने वालों ने इस खेल मैदान में थोड़ी-थोड़ी देर में रोशनी और अजीब सी आवाजें आने का दावा किया है।

3. 'एट्सगी हैंगर बे' पर भटकती हैं जापानी पायलटों की आत्माएं

15 अगस्त 1945 को सम्राट हिरोहितो ने रेडियो पर जापान द्वारा मित्र देशों की सेनाओं के सामने सरेंडर का ऐलान किया था। इसी के साथ एशिया में दूसरे विश्व युद्ध का अंत हो गया था। 15 दिनों बाद 30 अगस्त को जनरल मैकआर्थर जापान के एट्सगी नेवल एयर फेसिलिटी पर सरेंडर करवाने पहुंचे। कहा जाता है कि मैकआर्थर को मृत आत्मघाती पायलटों के शवों के ऊपर से ले जाया गया था। सरेंडर की खबर से बेहद निराश और गुस्साए जापानी पायलटों को एट्सगी हैंगर बे पर मैकआर्थर के वेलकम के लिए खड़ा किया गया था, लेकिन उन्होंने सामूहिक रूप से हाराकिरी (आत्महत्या) कर ली। तभी से ऐसी खबरें आने लगीं कि पायलटों की आत्माएं इस हंगर बे पर भटक रही हैं। यहां काम करने वालों ने उन्हें देखने का भी दावा किया है।

4. 'हैम्पटन लिलीब्रिज हाउस' में रहती हैं आत्माएं

जॉर्जिया के सवान्नाह में ईस्ट सेंट जुलियन सड़क से आप गुजरें तो ये हॉन्टेड हाउस आपको जरूर दिखेगा। ये 18वीं सदी का हाउस है। कहा जाता है कि तीन मंजिला इस 
हाउस को एक नाविक ने बनवाया था, पर एक दिन उसका पूरा परिवार इसमें मरा हुआ पाया गया। नौकरों ने घर के लोगों को जहर देकर मार डाला था। अब हाउस में उनकी आत्मा भटकती है। लोगों का कहना है कि इस घर के पास से गुजरते हुए उन्हें अजीब सी आवाजें सुनाई पड़ती हैं और ठंडक महसूस होती है।

5. 'द ऑस्ट्रिच इन' है रहस्यमय

इंग्लैंड के एक गांव कॉनब्रुक में बने इस घर का नाम 'द ऑस्ट्रिच इन' है। इसका मालिक जॉन जरमन नामक एक व्यक्ति था। कहा जाता है कि उस पर अपने घर में 60 लोगों की हत्या करने का आरोप था। अपनी वाइफ के साथ मिलकर वो लोगों की लाश को उबालकर तहखाने में छिपा देता था। जरमन के बाद यहां रहने आए अमीरों को अजीब अनुभव हुए। इस घर में किचन के ठीक ऊपर एक विशेष कमरा है। कुछ लोग कहते हैं कि उन्होंने पाया कि उनका बेड फर्श में जड़ा हुआ था। जबकि कुछ ने बताया कि कमरा अपने आप धीरे-धीरे गरम हो जाता है, तो कुछ का कहना है कि वो यहां रहने के दौरान वो काफी थका हुआ महसूस करते थे। रात में इस घर में रहने वालों ने तो काफी डरावने अनुभव बताए। जैसे- उन्हें लगा कि फर्श अभी दो फाड़ हो जाएगा और उनका बेड उसमें समा जाएगा।

6. 'द हाउस ऑफ डेथ' है अशुभ

न्यूयॉर्क सिटी के ग्रीनविच विलेज में 14 वेस्ट 10th स्ट्रीट पर बना है ये घर। यहां रहने वाला हर शख्स इस बात से सहमत है कि ये घर अशुभ है। बहरहाल ये तर्क का विषय है। 20वीं सदी के अंत में ये घर कुछ डरावनी घटनाओं की वजह बना। इसकी शुरुआत एक हत्या या खुदकुशी की अफवाह से हुई। कहा जाता है कि 1987 में इस घर में डिफेंस अटॉर्नी जोएल स्टेनबर्ग ने शक के चलते अपनी 6 साल की बेटी की हत्या कर दी थी। नेमप्लेट के अनुसार इस घर के पहले मालिक मार्क ट्वेन थे। 1960 में इसे अभिनेत्री जान ब्रयांट बार्टिल ने खरीदा था, लेकिन हफ्ते भर के अंदर ही उन्हें कुछ डरावने अनुभव हुए। जैसे- गर्दन पर पीछे से किसी ठंडे हाथ का स्पर्श, घर में किसी के कदमों की आहट, मरे हुए शरीर की दुर्गंध। इससे बार्टिल बेहद तनाव में आ गईं। ऐसे ही अनुभव यहां रहने आए बाकी लोगों को भी हुए। इनमें से कई की मौत हो गई।

7. '29 हैनबरी स्ट्रीट' पर मंडराता है भूत

1880 में सामने आई सीरियल किलर 'जैक द रिपर' की शल्य विकृति (surgical mutilation) से पूरे लंदन में सिहरन दौड़ गई थी। पहली बार किसी घटना ने पूरी दुनिया की मीडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा था। रिपर के 5 पीड़ितों में से एक थी एन्नी चैपमैन, जिसकी लाश 8 सितंबर 1888 को 29 हैनबरी स्ट्रीट पर पाई गई थी। उसका सिर और गर्भाशय कटा हुआ था। एन्नी का घर इस सड़क पर ही था। 1970 में इस घर का उत्तरी हिस्सा जब एक शराबघर का रास्ता बनाने के लिए ढहा दिया गया तो उसके बाद से ही आश्चर्यजनक घटनाएं घटित होने लगीं। एन्नी का सिर कटा भूत लोगों को उस स्थान के इर्द-गिर्द मंडराते दिखाई पड़ने लगा, जहां उसकी लाश पाई गई थी। लोगों का दावा है कि हर साल एन्नी की डेथ एनिवर्सिरी पर ये भूत वहां दिखाई पड़ता है।

8. 'ओल्ड एब्बे', यहां रहती है काली चुड़ैल

ये है आयरलैंड के लिमेरिक काउंटी का 'ओल्ड एब्बे', इस मैदान पर अब सिर्फ खंडहर बचे हैं, वो भी एक-एक कर ढहते जा रहे हैं। कहा जाता है कि यहां एक काली नन की शैतान आत्मा भटकती है जिसे जिंदा जला दिया गया था। इस जगह को Black Hag’s Cell नाम दिया गया है।लोगों का कहना है कि इस जगह वो नन अपने शैतानी अनुष्ठान करती थी। उसके बाल चारो ओर फैले हुए हैं। एक दिन अचानक वो नन अपने घर के बाहर कुर्सी पर पूरी तरह जली हुई मृत पाई गई थी। उसका चेहरा दहशत से पीला पड़ गया था। लोगों के मुताबिक पिशाच उस नन का प्राण ले जाने आए थे, लेकिन सबको सताने के लिए उसकी आत्मा को इसी मैदान पर भटकने के लिए छोड़ दिया।

9. भूतों का शहर जेरोमी

अमेरिकी स्टेट अरिजोना के जेरोमी शहर को भूतों का शहर कहा जाता है क्योंकि यहां मरे हुए लोगों की संख्या जीवित लोगों से ज्यादा है। 18वीं सदी के अंत में जेरोमी तांबे की खान के लिए जाना जाता था। आसानी से पैसा कमाने की चाहत ने उच्च खनिक परिवारों को यहां बसने के लिए ज्यादा आकर्षित किया। मगर आपसी संघर्ष और खानों में हुई दुर्घटनाओं में यहां के ज्यादातर लोग मारे गए। जेरोमी को अमेरिका में 'शैतान लोगों का शहर' भी कहा जाता है। लोगों के मुताबिक यहां की खाली सड़कों पर भूत आने-जाने वालों को परेशान करते हैं।

10. बाकर होटल में टहलते हैं भूत

ये है टेक्सास के मिनरल वेल्स का बाकर होटल, जो 1972 से बंद पड़ा है। कहा जाता है कि इसके हॉल में भूत टहलते हैं। होटल की छत पर लोगों ने सफेद कपड़े पहने एक औरत को भी टहलते देखा है। कहते हैं कि यहां एक बच्चे की आवाज अक्सर सुनाई पड़ती है, जो अपनी मां को पुकारते हुए कहता है- 'ये लोग मुझे परेशान करते हैं मम्मी।' बहरहाल, अब इस होटल को फिर से खोल कर इसका खोया गौरव लौटाने की योजना है।