टेक्नोलॉजी : बीमारी फैलाने वाले मच्छरों की आबादी पर नकेल कसेगा गूगल

इस योजना का नाम डीबग फ्रेस्रो रखा गया है


25th July 2017 | CyberManch.com

इंटरनेट की बेताज बादशाह कंपनी गूगल अब ऐसी तकनीक लाने जा रहे है जो बीमारी फैलाने वाले मच्छरों की आबादी पर नकेल कसेगा। यह तकनीक गूगल की मदर कंपनी अल्फाबेट अमेरिकी वैज्ञानिकों की मदद से तैयार करने जा रही है। बताया जा रहा है कि गूगल तकनीकी की मदद से ऐसे मच्छर पैदा करेगा जो बीमारी फैलाने वाले मच्छरों का नाश करेंगे।

एक अमेरिकी अखबार के हवाले से कहा गया है कि बनाई जा रही योजना के अनुसार, तनकीक के सहारे पैदा किए गए नर मच्छर बंध्या होंगे जो प्रकृति में पहले से मौजूद मादा मच्छों से संसर्ग करेंगे लेकिन मादा जब अंडे देगी तो उनमें बच्चे विकसित नहीं होंगे।

इस योजना का नाम डीबग फ्रेस्रो रखा गया है जिसमें शुरुआत में करीब दो करोड़ मच्छर पैदा करने की योजना है। वैज्ञानिकों को कहना है कि इसका मकसद एडीज एजेप्टाई मच्छरों की संख्या में कमी लाना है। मच्छरों की यह प्रजाति जीका, डेंगू और चिकुनगुनिया जैसी बीमारियां फैलाने के लिए जिम्‍मेदार होती है।

कंपनी ने अमेरिका के फ्रेंस्रो काउंटी इलाके में 20 सप्ताह में 20 लाख मच्छर छोड़ेगी। बताया जा रहा है कि यह मच्छर काटते नहीं हैं।

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस प्रयास से बीमारी फैलाने वाले मच्छरों की आबादी को काबू करने में काफी मदद मिलेगी।